बुधवार, 23 मई 2012


jeevan............


जीवन की गहराई में जीवन की सफलता नहीं बल्कि जीवन की सफलता  में जीवन  की  गहराई  छिपी  होती  है .........mait

खुला आसमान

हँसी भी रोग सा लगता हैं, काम भी अब बोझ सा लगता हैं। शाम अब रात सी नीरस सी लगती हैं, क्योकि साथ भी अब दूरी से बदल गयी है । हिसाब माँगा ...