शनिवार, 29 सितंबर 2018

आइना

चले थे कल सुबह पढ़ने पूरी किताब पर
दूसरा पन्ना पलटने की न हुई हिम्मत।
दिखा गया पहला पन्ना हमें वो आइना
देख जिसे शर्म लज्जा से हुआ सामना।।

भटकते तो वो है जिन्हे लक्ष्य का ख्याल नहीं होता
ज्ञान हो मूल तो लूटने से कोई कंगाल नहीं होता ।
रास्ता कितना भी लम्बा हो पहुंचेंगे हम हर मंजिल
क्योकि अब हमारी हर कोशिश में तुम हो शामिल ।।

पंक्तिया कुछ यू चुभी पल भर
गहरे जख्म बने कुछ मन पर।
सुबह जो शाम में हुई तब्दील
अक्षर भी पढ़ना हुआ मुश्किल।।

सितारे भी पड़ने लगे जो सूर्य पे भारी
क्योकि आई थी अब अँधेरे की बारी ।
शिकायत नहीं इस रात से मुझको शायद
आने वाली सुबह होगी और भी प्यारी।।

जब तक है मेरे साँस में साँस
न होगा कभी हार का अहसास।
जहां तक चलेगी धड़कन हमारी
वहां तक रहेगी मेरी उम्मीदवारी।।

शुक्रवार, 14 सितंबर 2018

नींद

घात से उबारती रोतो को हँसाती।
रात के प्यारे सपनो में मुस्कुराती।।

होती जब सुबह तो साफ़ होती तस्वीर।
बीते दिन से पलट जाती पूरी तकदीर।।

होती साथ नयी हिम्मत और ताक़त ।
कोमल होते कच्चे फल जो थे सख्त।।

नींद की आदत है सपनो में नयी दुनिया दिखाना।
ये प्रण हमारा सपने को साकार करके ही दिखाना।।

शुक्रवार, 7 सितंबर 2018

रात

बादल में छुपे सूरज तो उसे रात नहीं कहते
बुझ न सके आग तो उसे बे आग नहीं कहते।
अँधेरे में न हो उजाला तो हर चीज काली नहीं हो जाती
उबलते पानी में कभी अपनी परछाई देखी नहीं जाती।।

होती सदा अंत कष्ट की
राह पहुँचती ध्येय पे।
चोटिल घावों से बढ़ साहस
लक्ष्य मिले सब हिम्मत से।।

गुरुवार, 6 सितंबर 2018

किताब

न मुझसे कही गयी
न तुम्हारी सुनी गयी।
न बयां हो सकी
न दफ़न हो सकी।।

सूखे में थी बरसात
अकेलेपन में दी साथ।
अँधेरे में बनी चिराग
ये मेरी किताब।।

बुधवार, 22 अगस्त 2018

सूर्यास्त

है सूर्यास्त जो होने वाली है
शाम भी अब ढलने वाली है।

लोग थक चुके अब काम कर कर
आराम की चांदनी फैलेगी हर घर।

सूर्य भी जा चुका अब घर अपने
बच्चे भी खेलने लगे खिलौने।

सुबह से जो निकली वो किरण
अब नींद की बनेगी विकिरण।

लिखती सदा ये एक चिर कथा अनंत
सूर्यास्त तो है केवल एक पृष्ठ का अंत।

समझ चुके पक्षी की होने वाली है रात
आते होंगे माँ बाप आज के दाने के साथ।

होगी फिर सूर्योदय एक नई शुरुआत
हम होंगे संग होगी हमारी मुलाकात।

आइना

चले थे कल सुबह पढ़ने पूरी किताब पर दूसरा पन्ना पलटने की न हुई हिम्मत। दिखा गया पहला पन्ना हमें वो आइना देख जिसे शर्म लज्जा से हुआ सामना।। ...