शुक्रवार, 7 सितंबर 2018

रात

बादल में छुपे सूरज तो उसे रात नहीं कहते
बुझ न सके आग तो उसे बे आग नहीं कहते।
अँधेरे में न हो उजाला तो हर चीज काली नहीं हो जाती
उबलते पानी में कभी अपनी परछाई देखी नहीं जाती।।

होती सदा अंत कष्ट की
राह पहुँचती ध्येय पे।
चोटिल घावों से बढ़ साहस
लक्ष्य मिले सब हिम्मत से।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

खुला आसमान

हँसी भी रोग सा लगता हैं, काम भी अब बोझ सा लगता हैं। शाम अब रात सी नीरस सी लगती हैं, क्योकि साथ भी अब दूरी से बदल गयी है । हिसाब माँगा ...