गुरुवार, 6 सितंबर 2018

किताब

न मुझसे कही गयी
न तुम्हारी सुनी गयी।
न बयां हो सकी
न दफ़न हो सकी।।

सूखे में थी बरसात
अकेलेपन में दी साथ।
अँधेरे में बनी चिराग
ये मेरी किताब।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आइना

चले थे कल सुबह पढ़ने पूरी किताब पर दूसरा पन्ना पलटने की न हुई हिम्मत। दिखा गया पहला पन्ना हमें वो आइना देख जिसे शर्म लज्जा से हुआ सामना।। ...