गुरुवार, 6 सितंबर 2018

किताब

न मुझसे कही गयी
न तुम्हारी सुनी गयी।
न बयां हो सकी
न दफ़न हो सकी।।

सूखे में थी बरसात
अकेलेपन में दी साथ।
अँधेरे में बनी चिराग
ये मेरी किताब।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

खुला आसमान

हँसी भी रोग सा लगता हैं, काम भी अब बोझ सा लगता हैं। शाम अब रात सी नीरस सी लगती हैं, क्योकि साथ भी अब दूरी से बदल गयी है । हिसाब माँगा ...