गुरुवार, 6 सितंबर 2018

किताब

न मुझसे कही गयी
न तुम्हारी सुनी गयी।
न बयां हो सकी
न दफ़न हो सकी।।

सूखे में थी बरसात
अकेलेपन में दी साथ।
अँधेरे में बनी चिराग
ये मेरी किताब।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जिसको देखो

जिसको देखो वही रो रहा है किस्मत पे न चाह कर्म की न राह धर्म की अनंत मार्ग के मध्य शून्य की रौशनी में चल रहा अविचल मनुष्यत्व है या छ...