गुरुवार, 6 सितंबर 2018

किताब

न मुझसे कही गयी
न तुम्हारी सुनी गयी।
न बयां हो सकी
न दफ़न हो सकी।।

सूखे में थी बरसात
अकेलेपन में दी साथ।
अँधेरे में बनी चिराग
ये मेरी किताब।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नींद

घात से उबारती रोतो को हँसाती। रात के प्यारे सपनो में मुस्कुराती।। होती जब सुबह तो साफ़ होती तस्वीर। बीते दिन से पलट जाती पूरी तकदीर।। हो...