सोमवार, 6 अगस्त 2018

संघर्ष

 संघर्ष

संघर्ष एक शस्त्र है
असफलता के समुद्र में
मिलता है गहराई में।
जीत में न हार में
न कभी एक बार में
ये कोशिशों के सैलाब में।।

संघर्ष एक अस्त्र है
अभिलाषा जब शिखर की
तो चलता क्यों रेत पे।
नदियाँ न मुड़ी कभी
तो मुड़ता क्यों घडी घडी
सीधा चल उस ध्येय पे।।

संघर्ष एक चाह है
सोच ली जो जीत की
तो नजरे क्यों रीत पे।
जग हँसा हर हार पे
जो जीत की नींव बनी
तू खुद का मन जीत ले ।।


संघर्ष एक राह है
पथिक की ये चाह है
रुके न किसी दहलीज पे।
बन सूरज तू गगन का
रोशन कर पूरा समां
संघर्ष की यही रीत है।।

संघर्ष से रख तू दोस्ती
ये भोर की काली रात है
इसी में तेरी जीत है
इसी में मेरी जीत है ।।

-Mait

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आइना

चले थे कल सुबह पढ़ने पूरी किताब पर दूसरा पन्ना पलटने की न हुई हिम्मत। दिखा गया पहला पन्ना हमें वो आइना देख जिसे शर्म लज्जा से हुआ सामना।। ...